मेरे महबूब, मेरे दोस्त, मेरी जान-ए-ग़ज़ल


मेरे महबूब, मेरे दोस्त, मेरी जान-ए-ग़ज़ल
दो क़दम राह-ए-मोहब्बत में मेरे साथ भी चल

दो घड़ी बैठ मेरे पास, कि मैं पढ़ लूँ ज़रा
तेरी पेशानी प लिक्खा है मेरी ज़ीस्त का हल

एक उम्मीद प उलझे हैं हर इक पेच से हम
हौसला खोल ही देगा कभी तक़दीर के बल

वक़्त की गर्द छुपा देती है हर एक निशाँ
संग पर खींची लकीरें रहें कितनी भी अटल

टूटे ख़्वाबों की ख़लिश1 जान भी ले लेती है
ख़्वाब दिखला के मुझे ऐ दिल-ए-बेताब न छल

जी नहीं पाता है इंसान कभी बरसों में
ज़िन्दगी करने को काफ़ी है कभी एक ही पल

नूर और नार2 का मैं रोज़ तमाशा देखूं
ख़ूँचकाँ3 शम्स4 को तारीक5 फ़िज़ा जाए निगल

मार डाले न कहीं तुझ को ये तन्हाई का ज़हर
दिल के वीरान अंधेरों से कभी यार निकल

नौहाख़्वाँ6 क्यूँ हुए "मुमताज़" सभी मुर्दा ख़याल
मदफ़न7-ए-दिल में अजब कैसा ये हंगाम था कल

1- चुभन, 2- रौशनी और आग, 3- जिस से खून टपकता हो, 4- सूरज, 5- अंधेरा, 6- रोना पीटना, 7- क़ब्रिस्तान

mere mehboob, mere dost, meri jaan e ghazal
do qadam raah e mohabbat meN mere saath bhi chal

do ghadi baith mere paas, ke maiN padh looN zara
teri peshaani pa likkha hai meri zeest ka hal

ek ummeed pa uljhe haiN har ik pech se ham
hausla khol hi dega kabhi taqdeer ke bal

waqt ki gard chhupa deti hai har ek nishaaN
sang par kheenchi lakeereN raheN kitni bhi atal

toote khwaaboN ki khalish jaan bhi le leti hai
khwaab dikhla ke mujhe ae dil e betaab na chhal

jee nahiN paata hai insaan kabhi barsoN meN
zindagi karne ko kaafi hai kabhi ek hi pal

noor aur naar ka maiN roz tamaasha dekhooN
khooN chakaaN shams ko taareek fizaa jaae nigal

maar daale na kahiN tujh ko ye tanhaai ka zehr
dil ke veeraan andheroN se kabhi yaar nikal

nauha khwaaN kyuN hue "Mumtaz" sabhi murda khayaal
madfan e dil meN ajab kaisa ye hangaam tha kal

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था