हम झेलने अज़ीज़ों का हर वार आ गए


हम झेलने अज़ीज़ों का हर वार आ गए
सीना ब सीना बर सर-ए-पैकार आ गए

ऐ ज़िन्दगी ख़ुदारा हमें अब मुआफ़ कर
हम तो तेरे सवालों से बेज़ार आ गए

तमसील दुनिया देती थी जिन के खुलूस की
उन को भी दुनियादारी के अतवार आ गए

यारो सितम ज़रीफ़ी तो क़िस्मत की देखिये
कश्ती गई तो हाथों में पतवार आ गए

घबरा गए हैं अक्स की बदसूरती से अब
हम आईनों के शहर में बेकार आ गए

आवारगी का लुत्फ़ भी अब तो हुआ तमाम
अब तो सफर में रास्ते हमवार आ गए

पुरसिश ज़मीर की न हुई जब जहान में
मुमताज़ हम भी बेच के दस्तार आ गए  


ham jhelne azizoN ka har waar aa gaye
seena b seena bar sar e paikaar aa gaye

aye zindagi khudaara hameN ab muaaf kar
ham to tere sawaaloN se bezaar aa gaye

tamseel duniya deti thi jin ke khuloos kee
un ko bhi duniya daari ke atwaar aa gaye

yaaro, sitam zareefi to qismat kee dekhiye
kashti gai to haathoN meN patwaar aa gaye

ghabra gaye haiN aks kee badsoorti se ab
ham aainoN ke shahr meN bekaar aa gaye

aawaargi ka lutf bhi ab to hua tamaam
ab to safar meN raaste hamwaar aa gaye

pursish zameer kee n hui jab jahaan meN
"Mumtaz" ham bhi bech ke dastaar aa gaye

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे