साँसों का तार हम को तो इक जाल हो गया


साँसों का तार हम को तो इक जाल हो गया
अब क्या कहें हयात का क्या हाल हो गया

टुकड़ों में बंट गया है मेरा अक्स-ए-ज़ात भी
ये इश्क़ दिल के शीशे पे इक बाल हो गया

हिम्मत भी अब के टूट गई पर के साथ साथ
मेरा जुनूँ भी अब के तो पामाल हो गया

ये आईना हयात का बे आब जो हुआ
घबरा के मेरा अक्स भी बदहाल हो गया

दौर-ए-जदीद की ये इनायत भी देखिये
जो रहनुमा बना वही दज्जाल हो गया

दीवानों से किसी को शिकायत भी क्यूँ रहे
मेरा जुनून मेरे लिए ढाल हो गया

मुमताज़ ऐसी आम हुई मुफ़लिसी कि अब
इंसान का ज़मीर भी कंगाल हो गया

saansoN ka taar ham ko to ik jaal ho gaya 
ab kya kaheN hayaat ka kya haal ho gaya 

tukdoN meN bant gaya hai mera aks-e-zaat bhi 
ye ishq dil ke sheeshe pe ik baal ho gaya 

himmat bhi ab ke toot gai par ke saath saath
mera junooN bhi ab ke to paamaal ho gaya 

ye aaina hayaat ka be aab jo hua 
ghabra ke mera aks bhi bad haal ho gaya 

daur-e-jadeed kee ye inaayat bhi dekhiye
jo rahnuma bana wahi dajjaal ho gaya 

deewaanoN se kisi ko shikaayat bhi kyuN rahe 
mera junoon mere liye dhaal ho gaya 

"Mumtaz" aisi aam hui muflisi ke ab 
insaan ka zameer bhi kangaal ho gaya 



Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे