मरासिम कोई जो बाहम न होंगे


मरासिम कोई जो बाहम न होंगे
कोई खद्शात, कोई ग़म न होंगे

गुमाँ की बस्तियाँ मिस्मार कर दो
यकीं के सिलसिले मुबहम न होंगे

ख़ुदा के सामने हैं सर-ब -सजदा
हमारे सर कहीं भी ख़म न होंगे

निकल आए हैं हम हर कशमकश से
ये सदमे अब हमें जानम न होंगे

हमारी क़द्र भी समझेगी दुनिया
मगर तब, जब जहाँ में हम न होंगे

मुक़द्दर हम ने ख़ुद अपना लिखा है
सितारे हम से क्यूँ बरहम न होंगे

मुझे तू जैसे चाहे आज़मा ले
"मेरे जज़्बात-ए-उल्फ़त कम न होंगे"

यहाँ "मुमताज़" ठहरी हैं खिज़ाएँ
यहाँ अब ख़्वाब के मौसम न होंगे

marasim koi jo baaham na honge
koi khadshaat, koi gham na honge

gumaaN ki bastiyaaN mismaar kar do
yaqeeN ke silsile mubham na honge

khuda ke saamne haiN sar-ba-sajdaa
hamaare sar kahiN bhi kham na honge

nikal aae haiN ham har kashmkash se
ye sadme ab hameN jaanam na honge

hamaari qadr bhi samjhegi duniya
magar tab, jab jahaN meN ham na honge

muqaddar ham ne khud apna likha hai
sitaare ham se kyuN barham na honge

mujhe tu jaise chaahe, aazma le
"mere jazbaat-e-ulfat kam na honge"

yahaN "Mumtaz" thehri haiN khizaaeN
yahaN ab khwaab ke mausam na honge

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था