टकराई जब टरक से मेरी कार साफ़ साफ़


टकराई जब टरक से मेरी कार साफ़ साफ़
वो ब्रांड न्यू से बन गई भंगार (कबाड़ ) साफ़ साफ़

मेहमाँ की बेहयाई से कुढ़ता है मेज़बाँ
सुन लो हर इक निवाले प् चटखार साफ़ साफ़

अब के हुआ है यूँ मुझे खांसी का आरिज़ा
बजने लगा है सांस का हर तार साफ़ साफ़

ख़ारिज हुई ख़िज़ाब की डेट एक्सपायरी
चमका सफ़ेद जुल्फों का हर तार साफ़ साफ़

जब से चुनावी वादों का बैठा है सब ग़ुबार
आने लगा है तब से नज़र यार साफ़ साफ़

मोदी नितीश की भी तो परतें उधड़ गईं
भ्रष्टों का अब नुमायाँ है आचार साफ़ साफ़

मोदी की आन बान से नालाँ हैं जो शरद
दिखने लगी है दोनों की यलग़ार साफ़ साफ़

पी. एम. भी अपने मुल्क का अब तो है एम. एम. एस.
कोयले की कोठरी में है सरदार साफ़ साफ़

मिसरा दिया था अब्बा ने बेढब, मगर जनाब
इज़्ज़त हमारी बच गई इस बार साफ़ साफ़

यारों ने यूँ तो हम प् बड़ी फब्तियां कसीं
"मुमताज़" हम बचा गए हर वार साफ़ साफ़

takrai jab truck se meri car saaf saaf
wo brand new se ban gai bhangaar saaf saaf

mehmaaN ki behayaai se kudhta hai mezbaaN
sun lo har ik niwaale pa chatkhaar saaf saaf

ab ke hua hai yuN mujhe khaansi ka aarizaa
bajne laga hai saans ka har taar saaf saaf

khaarij hui khizaab ki date expiry
chamka safed zulfoN ka har taar saaf saaf

jab se chunaavi vaadoN ka baitha hai sab ghubaar
aane laga hai tab se nazar yaar, saaf saaf

Modi, Niteesh ki bhi to parteN udhad gaiN
bhrashtoN ka ab numaayaaN hai aachaar saaf saaf

Modi ki aan baan se naalaaN haiN jo Sharad
dikhne lagi hai donoN ki yalghaar saaf saaf

P.M. hamaare mulk ka ab to hai M.M.S.
koyle ki kothri meN hai Sardaar saaf  saaf

misra diya tha Abba ne bedhab, magar janaab
izzat hamaari bach gai is baar saaf saaf

yaaroN ne yuN to ham pa badi fabtiyaaN kasiN
"Mumtaz" ham bacha gae har waar saaf saaf

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था