ज़िन्दगी बाक़ी है जब तक, ये सफ़र बाक़ी है


ज़िन्दगी बाक़ी है जब तक, ये सफ़र बाक़ी है
दूर तक फैली हुई राहगुज़र बाक़ी है

सहमी आँखों में फ़सादात का डर बाक़ी है
ये भी क्या कम है? अभी शानों प सर बाक़ी है

जब कि अब दिल में फ़क़त फ़ितना ओ शर बाक़ी है
कौन कहता है, दुआओं में असर बाक़ी है

दिल में जो जुह्द का जज़्बा है, न कट पाएगा
आज़मा लो, कि जो शमशीर ओ तबर बाक़ी है

हमसफ़र सारे जुदा हो गए रफ़्ता रफ़्ता
इक दिल ए नातवाँ, इक दीदा ए तर बाक़ी है

देख लो तुम, कि जो हक़ है, वो नहीं छुप सकता
वो भी रख दो, कोई इलज़ाम अगर बाक़ी है

मुद्दतें हो गईं जन्नत से निकल कर, लेकिन
नस्ल ए इंसान के दिल में अभी शर बाक़ी है

धार ख़ंजर में है जिस के, वो मुक़ाबिल आए
एक "मुमताज़" अभी सीना सिपर बाक़ी है 

zindagi baaqi hai jab tak, ye safar baaqi hai
door tak phaili hui raahguzar baaqi hai

sahmi aankhoN meN fasaadaat ka dar baaqi hai
ye bhi kya kam hai? abhi shaanoN pa sar baaqi hai

jab ke ab dil meN faqat fitna o shar baaqi hai
kaun kehta hai, duaaoN meN asar baaqi hai

dil meN jo juhd ka jazbaa hai, na kat paaega
aazmaa lo, ke jo shamsheer o tabar baaqi hai

ham safar saare judaa ho gae rafta rafta
ik dil e natawaaN, ik deeda e tar baaqi hai

dekh lo tum, ke jo haq hai, wo nahiN chhup sakta
wo bhi rakh do, koi ilzaam, agar baaqi hai

muddateN ho gaiN jannat se nikal kar, lekin
nasl e insaan ke dil meN abhi shar baaqi hai

dhaar khanjar meN hai jis ke, wo muqaabil aae
ek "mumtaz" abhi seena sipar baaqi hai

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे