वो हमसफ़र, मेरे हमराह जो चला भी नहीं


वो हमसफ़र, मेरे हमराह जो चला भी नहीं
रहा भी साथ हमेशा, कभी मिला भी नहीं

तमाम उम्र गुजरने को तो गुज़र भी गई
प् बेक़रार सा वो पल कभी टला भी नहीं

हुआ है दिल प् जो तारी ये बेहिसी का ख़ुमार
सुकून ए दिल भी नहीं है, कोई ख़ला भी नहीं

सद आफ़रीन ये ईज़ा परस्तियाँ दिल की
कि ज़िन्दगी से मुझे अब कोई गिला भी नहीं

चलें जो हम तो ज़माना भी साथ साथ चले
हमारे साथ मगर कोई क़ाफ़िला भी नहीं

हमारे दर्द से उस को बला की रग़बत थी
तो ज़ख्म दिल का कभी हम ने फिर सिला भी नहीं

रहा है यूँ तो हर इक ज़ाविया अयाँ, लेकिन
ये राज़ ज़ात का हम पर कभी खुला भी नहीं

ये और बात कि जीना भी फ़र्ज़ है, लेकिन
हयात करने का "मुमताज़" हौसला भी नहीं

wo hamsafar, mere hamraah jo chalaa bhi nahiN
raha bhi saath hamesha, kabhi milaa bhi nahiN

tamaam umr guzarne ko to guzar hi gai
pa beqaraar sa wo pal kabhi talaa bhi nahiN

hua hai dil pa jo taari ye behisi ka khumaar
sukoon e dil bhi nahiN hai, koi khalaa bhi nahiN

sad aafreen ye eezaa parastiyaaN dil ki
ke zindagi se mujhe ab koi gilaa bhi nahiN

chaleN jo ham to zamaana bhi saath saath chale
hamaare saath magar koi qaafilaa bhi nahiN

hamaare dard se us ko balaa ki raghbat thi
to zakhm dil ka kabhi ham ne phir silaa bhi nahiN

rahaa hai yuN to har ik zaaviyaa ayaaN, lekin
ye raaz zaat ka ham par kabhi khulaa bhi nahiN

ye aur baat, ke jeena bhi farz hai, lekin
hayaat karne ka "Mumtaz" hausla bhi nahiN

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था