एक दुआइआ


नज़र भी, रूह भी, दिल भी, है दामन भी तही दाता
पुकारे तेरी रहमत को मेरी तशनालबी दाता
तेरे हाथों में ऐ शाह ए सख़ा कौनैन रक्खे हैं
बहुत छोटी, बहुत अदना सी है मेरी ख़ुशी दाता

अक़ीदा है मेरा हट कर, तलब मेरी ज़ियादा है
मेरा कशकोल है छोटा, तेरी रहमत कुशादा है
दिया तू ने मुझे जो भी, तेरी रहमत से तो कम है
मोहब्बत में मेरा हद से गुजरने का इरादा है

मेरी तक़दीर में कौन ओ मकाँ रखना, इरम रखना
मेरे दाता ज़रा अपनी सख़ावत का भरम रखना
कहीं उम्मीद का शीशा न चकनाचूर हो जाए
मेरे हालात पर दाता ज़रा नज़र ए करम रखना

नज़र तेरी सख़ावत पर, तेरी देहलीज़ पर सर है
मैं इक तूफ़ान हूँ ग़म का, तू रहमत का समंदर है
मेरी इस प्यास को एहसास का दरिया अता कर दे
मेरे दामन में दुनिया की सभी रानाइयाँ भर दे

nazar bhi, rooh bhi, dil bhi, hai daaman bhi tahee daata
pukaare teri rehmat ko meri tashna labi daata
tere haathoN meN aye shaah e sakhaa kaunain rakkhe haiN
bahot chhoti, bahot adnaa si hai meri khushi daata

aqeeda hai mera hat kar, talab meri ziyaada hai
mera kashkol hai chhota, teri rehmat kushaada hai
diya tu ne mujhe jo bhi, teri rehmat se to kam hai
mohabbat meN mera had se guzarne ka iraada hai

meri taqdeer meN kaun o makaaN rakhna, iram rakhna
mere daata zaraa apni sakhaawat ka bharam rakhna
kahiN ummeed ka sheesha na chakna choor ho jaae
mere haalaat par daata zaraa nazar e karam rakhna

nazar teri sakhaawat par, teri dehleez par sar hai
maiN ik toofaan hooN gham ka, tu rehmat ka samadar hai
meri is pyaas ko ehsaas ka dariya ataa kar de
mere daaman meN duniya ki sabhi raanaaiyaaN bhar de

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे