दब के इतने पैकरों में, सांस लेना है अज़ाब


दब के इतने पैकरों में, सांस लेना है अज़ाब
ज़िन्दगी मुझ से मिली है ओढ़ कर कितने नक़ाब

ये मेरी हस्ती भी क्या है, दूर तक फैला सराब
जल रहा है ज़र्रा ज़र्रा, तैश में है आफ़ताब

मिट के भी हम कर न पाए उल्फ़तों का एहतेसाब
क्या मिला बदला वफ़ा का, इक ख़ला, इक इज़तेराब

पढ़ रहे हैं हम अबस, कुछ भी समझ आता नहीं
खुल रहे हैं पै ब पै रिश्तों के हम पर कितने बाब

क्या करें, बीनाई के ये ज़ख्म भरते ही नहीं
चुभता है आँखों में, जब जब टूटता है कोई ख़्वाब

ख़्वाब के मंज़र भी अक्सर सच ही लगते हैं, मगर
खुल गया सारा भरम, अब हर ख़ुशी है आब आब

ज़िन्दगी लेती रही है इम्तेहाँ पर इम्तेहाँ
सब्र ओ इस्तेह्काम है हर आज़माइश का जवाब

खा के नौ सौ साठ  चूहे, बिल्ली अब हज को चली
आसी ए आज़म बने हैं आज कल इज़्ज़त मआब

कितने हैं किरदार, माँ, बेटी, बहन, बीवी, ग़ुलाम
हाँ मगर, "मुमताज़" की हस्ती, न कोई आब ओ ताब 

dab ke itne paikroN meN, saans lena hai azaab
zindagi mujh se mili hai odh kar kitne naqaab

ye meri hasti bhi kya hai, door tak phaila saraab
jal raha hai zarra zarra, taish meN hai aaftaab

mit ke bhi ham kar na paae ulfatoN ka ehtesaab
kya mila badla wafaa ka, ik khalaa, ik izteraab

padh rahe haiN ham abas, kuchh bhi samajh aata nahiN
khul rahe haiN pai ba pai rishtoN ke ham par kitne baab

kya kareN, beenaai ke ye zakhm bharte hi nahiN
chubhta hai aankhoN meN, jab jab toot'ta hai koi khwaab

khwaab ke manzar bhi aksar sach hi lagte haiN magar
khul gaya saara bharam, ab har khushi hai aab aab

zindagi leti rahi hai imtehaaN par imtehaaN
sabr o istehkaam hai har aazmaaish ka jawaab

khaa ke nau sau saath chuhe billi ab haj ko chali
aasi e aazam bane haiN aaj kal izzat ma'aab

kitne haiN kirdaar, maaN, beti, bahen, biwi, ghulaam
haaN magar, "Mumtaz" ki hasti, na koi aab o taab

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था