वो निस्बतें, वो रग़बतें, वो क़ुरबतें कहाँ गईं


वो निस्बतें, वो रग़बतें,       वो क़ुरबतें कहाँ गईं
दिलों  में  जो  मक़ीम  थीं,   हरारतें  कहाँ  गईं

तराश डाला मसलेहत ने ज़हन--दिल का फ़लसफा
बदलती  थीं  जो  पल ब पल तबीअतें,  कहाँ गईं

जदीदियत  की  जंग में  वो भोलापन भी खो गया
वो बचपना,  वो शोख़ी,      वो शरारतें कहाँ गईं

फ़ना हुईं वो यारियाँ,    वो रस्म ओ राह अब कहाँ
वो  सीधी सादी  ज़िन्दगी,  वो  फ़ुरसतें  कहाँ गईं

शिकस्त  खा  के  आज  क्यूँ  बिखर गए हैं हौसले
उम्मीदें  फ़ौत  क्यूँ  हुईं,  वो  हसरतें  कहाँ   गईं

बदलता  वक़्त  खेल  का  मिज़ाज  भी बदल गया
वो   प्यार  में   घुली  हुई    रक़ाबतें  कहाँ  गईं

है  कौन  अब  जो  डाल  दे कमंद आसमान   पर   
झुका  दें  आसमाँ  को  जो  वो  हिम्मतें  कहाँ गईं

wo nisbateN, wo raghbateN, wo qurbateN kahaN gaiN
diloN meN jo maqeem thiN,   haraarateN kahaN gaiN

taraash daala maslehat ne zehn o dil ka falsafaa
badalti thiN jo pal ba pal tabeeateN kahaN gaiN

jadeediyat ki jang meN wo bholapan bhi kho gaya
wo bachpana, wo shokhi, wo sharaarateN kahaN gaiN

fanaa huiN wo yaariyaaN, wo rasm o raah ab kahaN
wo seedhi saadi zindagi, wo fursateN kahaN gaiN

bikharne kyuN lage haiN ab ye hausle shikast se
ummeedeN faut kyuN huiN, wo hasrateN kahaN gaiN

badalta waqt khel ka mizaaj bhi badal gaya
wo pyaar meN ghuli hui raqaabateN kahaN gaiN

wo kaun hai, jo aasmaaN pa daal de kamand ab
jhuka deN aasmaaN ko jo, wo himmateN kahaN gaiN

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था