हर कहीं है अक्स तेरा हर कली में तेरी बू


हर कहीं है अक्स तेरा हर कली में तेरी बू
इस ज़मीं से उस ज़माँ तक हर कहीं बस तू ही तू

हूँ गुनह सर ता पा लेकिन फिर भी मेरे ग़फ़ूर
मासियत है मेरी आदत, और रहमत तेरी ख़ू

कायनातों के भँवर में फिर रहे हैं बेक़रार
जाने ले जाए कहाँ अब हम को तेरी आरज़ू

मेरे मालिक, तेरी रहमत हमें दरकार है
भर गया है इस ज़मीं पर अब गुनाहों का सुबू

ज़र्रे ज़र्रे पर अयाँ हैं नक़्श हर तख़्लीक़ के
अक़्ल--आवारा फिरे है हैराँ हैराँ, कू कू

तेरे दर तक के भी दामन रहा ख़ाली मेरा
तेरी रहमत को सदा देती है मेरी आरज़ू

या इलाही, हम्द तेरी मैं करूँ कैसे रक़म
चाहिए दिल की तहारत, उँगलियाँ हों बावज़ू

ढाँप ले मेरे गुनाहों को तू अपने साए से
रक्खी है "मुमताज़" की तू ने हमेशा आबरू 

har kahiN hai aks tera har kali meN teri bu
is zameeN se us zamaaN tak har kahiN bas tu hi tu

huN gunah sar taa paa lekin phir bhi aye mere ghafoor
maasiyat hai teri aadat aur rahmat teri khu

kaaynaatoN ke bhanwar meN phir rahe haiN beqaraar
jaane le jaae kahaN ab ham ko teri aarzoo

aye mere maalik teri rahmat hameN darkaar hai
bhar gaya hai is zameeN par ab gunaahoN ka subu

zarre zarre par ayaaN haiN naqsh har takhleeq ke
aql-e-aawaara phire hai hairaaN hairaaN ku ba ku

tere dar tak aa ke bhi daaman raha khaali mera
teri rahmat ko sadaa deti hai meri aarzoo

yaa ilaahi hamd teri maiN karuN kaise raqam
chaahiye dil kee tahaarat, ungliyaaN hoN baawazu

dhaanp le mere gunaahoN ko tu apne saaye se
rakkhi hai "Mumtaz" ki tu ne hamesha aabru

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था