तस्वीर-ए-ज़िन्दगी में धनक रंग भर गए


तस्वीर-ए-ज़िन्दगी में धनक रंग भर गए
ख़ुशबू के क़ाफ़िले मेरे दिल से गुज़र गए

सैलाब कितने आज यहाँ से गुज़र  गए
आँखों में जो बसे थे, सभी ख़्वाब मर गए

दर दर फिरी हयात सुकूँ के लिए  मगर
वहशत हमारे साथ रही, हम जिधर गए

सीने में कुछ तो टीसता रहता है रोज़--शब
मजबूरियों के यूँ तो सभी ज़ख़्म भर गए

नाज़ुक से ख़्वाब जल के कहीं ख़ाक हो न जाएँ
हम जलती आरज़ू की तमाज़त से डर गए

पैकर वो रौशनी का जो उतरा निगाह में
कितने हसीन ख़्वाब नज़र में सँवर गए

सैलाब ऐसा आया वफ़ा के  जहान  में
"दिल में उतरने वाले नज़र से उतर गए"

जिन से ख़याल-ओ-ख़्वाब की दुनिया जवान थी
"मुमताज़" वो हसीन नज़ारे किधर गए

tasweer e zindagi meN dhanak rang bhar gae
khushboo ke qaafile mere dil se guzar gae

sailaab kitne aaj yahaN se guzar gae
aankhoN meN jo base the, sabhi khwaab mar gae

dar dar phiri hayaat sukooN ke liye magar
wahshat hamaare saath rahi, ham jidhar gae

seene meN kuchh to teesta rehta hai roz o shab
majbooriyoN ke yuN to sabhi zakhm bhar gae

naazuk se khwaab jal ke kahiN khaak ho na jaaeN
ham jalti aarzoo ki tamaazat se dar gae

paikar wo raushni ka jo utra nigaah meN
kitne haseen khwaab nazar meN sanwar gae

sailaab aisa aaya wafaa ke jahaan meN
"dil meN utarne waale nazar se utar gae"

jin se khayaal o khwaab ki duniya jawaan thi
"Mumtaz" wo haseen nazaare kidhar gae

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे