नीम गुलाबी


एक गुनह बस छोटा सा, इक लग़्ज़िश1 नीम2 गुलाबी
दिल पर दस्तक देती है इक ख़्वाहिश नीम गुलाबी

लम्हा लम्हा पिघली जाती है हसरत आवारा
दहके दो अंगारों की वो ताबिश3 नीम गुलाबी

पल भर में पैवस्त4 हुई है दिल के निहाँ5 ख़ानों6 में
बोझल बोझल पलकों की इक जुम्बिश7 नीम गुलाबी

लूट लिया बहका कर मेरी राहत का सरमाया8
दिल ने नज़रों से मिल कर की साज़िश नीम गुलाबी

सुलगा जाए जिस्म का संदल9, महके फ़ज़ा बातिन10 की
जलती है अब रूह11 तलक इक आतिश12 नीम गुलाबी

भीग गया जज़्बात का जंगल, फूट पड़ी हरियाली
बरसों बाद गिरी दिल पर ये बारिश नीम गुलाबी

रोग है या आसेब13 है ये, कोई तो बताए मुझ को
रह रह के होती है क्यूँ इक लर्ज़िश14  नीम गुलाबी

हम भी दौलतमंद हुए, दिल ने भी ख़ज़ाना पाया
वो दे कर "मुमताज़" गया इक बख़्शिश15 नीम गुलाबी  
1- लड़खड़ाहट, 2- आधी, 3-गर्मी भरी चमक, 4- घुस जाना, 5- छुपे हुए, 6- हिस्सों, 7- हिलना, 8- पूँजी, 9- चन्दन, 10- अन्तर्मन, 11- आत्मा, 12- आग, 13- भूत-प्रेत, 14- कंपन, 15- इनआम

ek gunah bas chhota sa, ik laghzish neem gulaabi
dil pe dastak deti hai ik khwaahish neem gulaabi

lamha lamha pighli jaati hai hasrat aawara
dahke do angaaroN ki wo taabish neem gulaabi

pal bhar meN paiwast hui hai dil ke nihaaNkhaanoN meN
bojhal bojhal palkoN ki ik jumbish neem gulaabi

loot liya bahka kar meri raahat ka sarmaaya
dil ne nazroN se mil kar ki saazish neem gulaabi

sulga jaae jism ka sandal, mahke fazaa baatin ki
jalti hai ab rooh talak ik aatish neem gulaabi

bheeg gaya jazbaat ka jungle, phoot padi hariyaali
barsoN baad giri dil par ye baarish neem gulaabi

rog hai ya aaseb hai ye, koi to bataae mujh ko
reh reh ke hoti hai kyuN ik larzish neem gulaabi

ham bhi daulatmand hue, dil ne bhi khazaana paaya
wo de kar "Mumtaz" gaya ik bakhshish neem gulaabi



Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था