यारी


मेरे यार मेरा सरमाया
इन जलती हुई राहों में
मेरा यार है ठंडा साया
ये यारी रहे सलामत ता अबद

मासूम लड़कपन के वो खेल सुनहरे
इस यारी में कुछ राज़ हैं गहरे गहरे
अब भी दिल की गहराई में रौशन हैं
मेरे यार की यारी में हैं जो लम्हे ठहरे
उन लम्हों का एहसास है अशद

हों जिस्म जुदा पर इन में जान वही है
दो दिल हैं लेकिन धड़कन एक रही है
इस सच्चे रिश्ते में सौ रंग भरे हैं
साँसों की लय ने बस इक बात कही है
अब हम को जुदा कर पाए बस लहद

मेरा यार उजाला है मेरे जीवन का
मज़बूत है कच्चा धागा इस बंधन का
सब छूटे मेरे यार का साथ न छूटे
है यार से रिश्ता दिल की हर धड़कन का
ये बात कही है मैं ने मुस्तनद

दुनिया में नुमायाँ शान ओ हशम है तेरा
मेरे यार पे मेरे मौला करम हो तेरा
मेरा यार सलामत है तो जहाँ में सब है
मेरा यार नहीं तो क्या है जहाँ में मेरा
अल मदद या इलाही अल मदद

ये चाँद तारे ये दुनिया निसार हो जाए
मेरी तो जान भी सदक़ा-ए-यार हो जाए

अता हो अता यार की मुझ को क़ुर्बत
सलामत रहे यार मेरा सलामत

मैं तोड़ दूँ, हाँ तोड़ दूँ सारी हदें
मैं पार कर दूँ तेरी ख़ातिर अपनी सारी सरहदें
है ख़ून में हल अब तो तेरे प्यार की ख़ुशबू
ऐ यार अब तो आजा मेरे रू ब रू
दिल तुझे देखे न जब तक तड़पे ये बेहद

उनवान बदल दूँगा तहरीर बदल दूँगा
मैं आज दोस्ती की तस्वीर बदल दूँगा
ख़्वाहिश पे तेरी काट के रख दूँगा कलेजा
इस तरह दोस्ती की तक़दीर बदल दूँगा

यार नसीबा यार ख़ुदाई यार मेरी पहचान
यारी पर दिल चीज़ ही क्या है जान करूँ क़ुर्बान

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था