हौसले ग़मों के हम यूँ भी आज़माते हैं


हौसले ग़मों के हम यूँ भी आज़माते हैं
खिलखिलाते लम्हों से ज़िन्दगी चुराते हैं

कोई ख़्वाब भी हम को ढूँढने न आ पाए
नक़्श अब के पाओं के हम मिटाते जाते हैं

ख़ूब हम समझते हैं रहनुमा की सब चालें
जान बूझ कर अक्सर हम फ़रेब खाते हैं

रौशनी तो क्या होगी झिलमिलाते अश्कों से
इन रवाँ चराग़ों को आज हम बुझाते हैं

दास्ताँ में तो उन का ज़िक्र तक नहीं आया
उन को क्या हुआ आख़िर आँख क्यूँ चुराते हैं

दिल के इस बयाबाँ में कोई तो नहीं आता
आज फिर यहाँ किस के साए सरसराते हैं

ढूंढती रहे मुमताज़ अब हमें सियहबख़्ती
दास्ताँ अधूरी हम अब के छोड़ जाते हैं


hausle ghamoN ke ham yuN bhi aazmaate haiN
khilkhilaate lamhoN se zindagi churaate haiN

koi khwaab bhi ham ko dhundne n aa paaye
naqsh ab ke paaoN ke ham mitaate jaate haiN

khoob ham samajhte haiN rahnuma kee sab chaaleN
jaan boojh kar aksar ham fareb khaate haiN

raushni to kya hogi jhilmilaate ashkoN se
in rawaaN charaaghoN ko aaj ham bujhaate haiN

daastaaN meN to un ka zikr tak nahiN aaya
un ko kya hua aakhir, aankh kyuN churaate haiN

dil ke is bayaabaaN meN koi to nahiN aata
aaj phir yahaN kis ke saaye sarsaraate haiN

dhundti rahe 'Mumtaz' ab hameN siyahbakhti
daastaaN adhoori ham ab ke chhod jaate haiN 

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था