तेरी ये बेनियाज़ी फिर ज़रा बदनाम हो जाए


तेरी ये बेनियाज़ी फिर ज़रा बदनाम हो जाए
मेरी महरूमियों का आज चर्चा आम हो जाए

कहाँ जाए तबाही, वहशतों का हश्र फिर क्या हो
मेरी किस्मत की हर साज़िश अगर नाकाम हो जाए

अँधेरा है, सफ़र का कोई अंदाज़ा नहीं होता
किधर का रुख़ करूँ, शायद कोई इल्हाम हो जाए

हया की वो अदा अब हुस्न में पाई नहीं जाती
निगाहों की तमाज़त से जो गुल अन्दाम हो जाए

दर-ए-रहमत प् हर उम्मीद कब से सर-ब-सजदा है
तेरी बस इक नज़र उट्ठे, हमारा काम हो जाए

वफ़ा की राह में ये भी नज़ारा बारहा देखा
जलें पर शौक़ के, लेकिन जुनूँ बदनाम हो जाए

नज़र "मुमताज़" उठ जाए तो दुनिया जगमगा उट्ठे
नज़र झुक जाए वो, तो पल के पल में शाम हो जाए 

teri ye beniyaazi phir zara badnaam ho jaaey
meri mahroomiyon ka aaj charcha aam ho jaaey

kahaN jaaey tabaahi, wahshatoN ka hashr phir kya ho
miri qismat ki har saazish agar nakaam ho jaaey

andhera hai, safar ka koi andaaza nahin hota
kidhar ka rukh karun, shaayad koi ilhaam ho jaaey

hayaa ki wo adaa ab husn men paai nahin jaati
nigaahon ki tamaazat se jo gul andaam ho jaaey

dar e rehmat pe har ummeed kab se sar ba sajdaa hai
teri bas ik nazar utthe, hamaara kaam ho jaaey

wafaa ki raah meN ye bhi nazaara baaraha dekha
jaleN par shauq ke, lekin junooN badnaam ho jaaey


nazar "mumtaz" uth jaaey to duniya jagmaga utthe
nazar jhuk jaaey wo, to pal ke pal meN shaam ho jaaey

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था