adaawat hi sahi

यास ये मेरी ज़रूरत ही सही
बेक़रारी मेरी आदत ही सही

घर से हम जैसों को निस्बत कैसी
सर पे नीली सी खुली छत ही सही

न सही वस्ल की इशरत न सही
गिरया ओ यास की लज़्ज़त ही सही

बर्क़ को ख़ैर मुबारक गुलशन
आशियाँ से हमें हिजरत ही सही

हम ने हर तौर निबाही है वफ़ा
न सही इश्क़, इबादत ही सही

राब्ता कुछ तो है लाज़िम उनसे
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही

हाकिमों की है इनायत मुमताज़

हमको इफ़लास की इशरत ही सही 

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे