Wali wali by Munir Naza and Mujtaba Naza

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कभी रुके तो कभी उठ के बेक़रार चले

ग़ज़ल - कभी चेहरा ये मेरा जाना पहचाना भी होता था

मेरे महबूब