तरही ग़ज़ल - खुली नसीब की बाहें मरोड़ देंगे हम

खुली नसीब की बाहें मरोड़ देंगे हम 
कि अब के अर्श का पाया झिंझोड़ देंगे हम 

जुनूँ बनाएगा बढ़ बढ़ के आसमान में दर 
ग़ुरूर अब के मुक़द्दर का तोड़ देंगे हम 

अभी उड़ान की हद भी तो आज़मानी है
फ़लक को आज बलंदी में होड़ देंगे हम 

है मसलेहत का तक़ाज़ा तो आओ ये भी सही 
हिसार-ए -आरज़ू थोडा सिकोड़ देंगे हम

कोई ये दुश्मन-ए -ईमान से कह दो जा कर
जेहाद-ए -वक़्त को लाखों करोड़ देंगे हम

इरादा कर ही लिया है तो जान भी देंगे
इस इम्तेहाँ में लहू तक निचोड़ देंगे हम

उठेगा दर्द फिर इंसानियत के सीने में
हर एक दिल का फफोला जो फोड़ देंगे हम

समेट लेंगे सभी दर्द के सराबों को
शिकस्ता ज़ात के टुकड़ों को जोड़ देंगे हम

अगर यकीन है खुद पर तो ये भी मुमकिन है
"हवा के रुख को भी जब चाहें मोड़ देंगे हम"

अना भी आज तो "मुमताज़" कुछ है शर्मिंदा
चलो फिर आज तो ये जिद भी छोड़ देंगे हम

khuli naseeb ki baaheN marod denge ham
ke ab ke arsh ka paaya jhinjod denge ham

junooN banaaega badh badh ke aasmaan meN dar
ghuroor ab ke muqaddar ka tod denge ham

abhi udaan ki had bhi to aazmaani hai
falak ko aaj balandi meN hod denge ham

hai maslehat ka taqaaza to aao ye bhi sahi
hisaar-e-aarzoo thoda sikod denge ham

koi ye dushman-e-imaan se keh do jaa kar
jehaad-e-waqt ko laakhoN karod denge ham

iraada kar hi liya hai to jaan bhi denge
is imtehaaN meN lahoo tak nichod denge ham

uthega dard phir insaaniyat ke seene meN
har ek dil ka phaphola jo phod denge ham

samet lenge sabhi dard ke saraaboN ko
shikasta zaat ke tukdoN ko jod denge ham

agar yaqeen hai khud par to ye bhi mumkin hai
"hawaa ke rukh ko bhi jab chaaheN mod denge ham"

anaa bhi aaj to "Mumtaz" kochh hai sharminda
chalo phir aaj to ye zid bhi chhod denge ham

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया