तरही ग़ज़ल - फिर बहारों को ख़्वाब देती हूँ

लग़्ज़िशों को शबाब देती हूँ
फिर बहारों को ख़्वाब देती हूँ
LAGHZISHO'N KO SHABAAB DETI HOO'N
PHIR BAHAARO'N KO KHWAAB DETI HOO'N

ख़ुद को यूँ भी अज़ाब देती हूँ
आरज़ू का सराब देती हूँ
KHUD KO YU'N BHI AZAAB DETI HOO'N
AARZOO KA SARAAB DETI HOO'N

वक़्त-ए-रफ़्ता के हाथ में अक्सर
ज़िन्दगी की किताब देती हूँ
WAQT E RAFTA KE HAATH ME'N AKSAR
ZINDAGI KI KITAAB DETI HOO'N

सी के लब ख़ामुशी के धागों से
हसरतों को अज़ाब देती हूँ
SEE KE LAB KHAAMUSHI KI DHAAGO'N SE
HASRATO'N KO AZAAB DETI HOO'N

जी रही हूँ बस एक लम्हे में
इक सदी का हिसाब देती हूँ
JEE RAHI HOO'N BAS EK LAMHE ME'N
IK SADI KA HISAAB DETI HOO'N

ज़ुल्म सह कर भी मुतमइन हूँ मैं
ज़िन्दगी को जवाब देती हूँ
ZULM SEH KAR BHI MUTMAIN HOO'N MAI'N
ZINDAGI KO JAWAAB DETI HOO'N

बाल-ओ-पर की हर एक फड़कन को
हौसला? जी जनाब, देती हूँ
BAAL O PAR KI HAR EK PHADKAN KO
HAUSLA? JEE JANAAB, DETI HOO'N

यादगार-ए-शिकस्त-ए-दिल भी तो हो
आज तुम को गुलाब देती हूँ
YAADGAAR E SHIKAST E DIL BHI TO HO
" AAJ TUM KO GULAAB DETI HOO'N "

हर इरादे की धार को फिर से
आज मुमताज़ आब देती हूँ
HAR IRAADE KI DHAAR KO PHIR SE

AAJ 'MUMTAZ' AAB DETI HOO'N

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया