वो दिन याद करो (WO DIN YAAD KARO)

ग़म-ए-दुनिया के हर इक काम से मोहलत ले कर
कभी फ़ुरसत में जो बैठो तो वो दिन याद करो

GHAM E DUNIYA KE HAR IK KAAM SE MOHLAT LE KAR
KABHI FURSAT MEN JO BAITHO TO WO DIN YAAD KARO

वो लड़कपन का ज़माना, वो सहेली, साथी
साथ मिल कर जो बुझाई वो पहेली साथी
कितने मासूम थे दिन, कितने सुनहरे सपने
छोटी छोटी सी ख़ुशी, छोटे से ग़म थे अपने
वो खिलौनों की क़तारें, वो हर इक बात में खेल
वो ज़रा देर में लड़ना, वो ज़रा देर में मेल

WO LADAKPAN KA ZAMANA WO SAHELI SAATHI
SAATH MIL KAR JO BUJHAAI WO PAHELI SAATHI
KITNE MAASOOM THE DIN KITNE SUNAHRE SAPNE
CHHOTI CHHOTI SI KHUSHI CHHOTE SE GHAM THE APNE
WO KHILONON KI QATAAREN WO HAR IK BAAT MEN KHEL
WO ZARA DER MEN LADNA WO ZARA DER MEN MEL

रतजगे गर्म सी रातों के, वो छत का बिस्तर
छेड़ देना वो तेरा तार-ए-मोहब्बत अक्सर
कभी रंगीन इशारे तो कभी सरगोशी
कभी जलती हुई ख़्वाहिश वो कभी मदहोशी

RATJAGE GARM SI RAATON KE WO CHHAT KA BISTAR
CHHED DENA WO TERA TAAR E MOHABBAT AKSAR
KABHI RANGEEN ISHAARE WO KABHI SARGOSHI
KABHI JALTI HUI KHWAAHISH WO KABHI MADHOSHI

जब तेरा अक्स किताबों मे नज़र आता था
जागती आँखों मे इक ख़्वाब उतर आता था
तेरा ख़त रख के किताबों मे पढ़ा करते थे
रंग इन ख़्वाबों मे हर रोज़ नया भरते थे

JAB TERA AKS KITAABON MEN NAZAR AATA THA
JAAGTI AANKHON MEN IK KHWAAB UTAR AATA THA
TERA KHAT RAKH KE KITAABON MEN PADHA KARTE THE
RANG IN KHWAABON MEN HAR ROZ NAYA BHARTE THE

और फिर पल मे हर इक रंग बिखरना साथी
वो हमेशा के लिए अपना बिछड़ना साथी
वो खिलौने, वो किताबें, वो जवाँ ख़्वाब कहाँ
अब वो मौसम, वो तेरे प्यार का मिज़राब कहाँ
अब वो फ़ुरसत न रही, अब वो ज़माना न रहा
तुझ से ख़्वाबों में वो मिलने का बहाना न रहा

AUR PHIR PAL MEN HAR IK RANG BIKHARNA SAATHI
WO HAMESHA KE LIYE APNA BICHHADNA SAATHI
WO KHILONE WO KITAABEN WO JAWAAN KHWAAB KAHAN
AB WO MAUSAM WO TERE PYAR KA MIZRAAB KAHAN
AB WO FURSAT NA RAHI AB WO ZAMANA NA RAHA
TUJH SE KHWAABON MEN WO MILNE KA BAHAANA NA RAHA

मेरे हमदम, मेरे हमराज़, मेरी राहत-ए-जाँ
क्या कभी याद तुम्हें भी वो समां आता है ?
वो खिलौने, वो किताबें, वो धड़कते सपने
आज के दौर में वो ख़्वाब कहाँ आता है

MERE HUMDUM MERE HUMRAAZ MERI RAAHT E JAAN
KYA KABHI YAAD TUMHEN BHI WO SAMAAN AATA HAI
WO KHILONE WO KITAABEN WO DHADAKTE SAPNE
AAJ KE DAUR MEN WO KHWAAB KAHAN AATA HAI

इसलिए आओ, ज़रा देर मेरे पास रहो
कुछ मेरे दिल की सुनो, कुछ तो निगाहों से कहो
आओ कुछ देर को माज़ी का सफ़र कर आएँ
आओ कुछ देर ज़रा बैठो, वो दिन याद करो

ISLIYE AAO ZARA DER MERE PAAS RAHO
KUCHH MERE DIL KI SUNO KUCHH TO NIGAAHON SE KAHO
AAO KUCHH DER KO MAAZI KA SAFAR KAR AAEN
AAO KUCHH DER ZARA BAITHO WO DIN YAAD KARO

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया