ग़ज़ल - बातों में सौ-सौ ख़्वाब सजे थे, कितना सुनहरा था किरदार

बातों में सौ-सौ ख़्वाब सजे थे, कितना सुनहरा था किरदार
जो थी नक़ाब के पीछे सूरत वो भी हुई ज़ाहिर इस बार
BAATON MEN SAU SAU KHWAAB SAJE THE, KITNA SUNAHRA THA KIRDAAR
JO THI NAQAAB KE PEECHHE SOORAT WO BHI HUI ZAAHIR IS BAAR

आबले अपने पाँव के रो-रो करते हैं हर पल इसरार
गुज़रेंगे कल भी लोग यहाँ से करते चलो राहें हमवार
AABLE APNE PAANV KE RO RO KARTE HAIN HAR PAL ISRAAR
GUZRENGE KAL BHI LOG YAHAN SE KARTE CHALO RAAHEN HAMWAAR

सोई क़यामत नींद से उठ कर देख ले जैसे एक झलक
प्यासी ज़मीन, झुलसते मंज़र, धूप में जलते हैं अशजार
SOI QAYAAMAT NEEND SE UTH KE DEKH LE JAISE EK NAZAR
PYAASI ZAMEEN JHULASTE MANZAR DHOOP MEN JALTE HAIN ASHJAAR

कैसे कटेगा कल का उजाला, कैसे ढलेगी रात सियाह
जागती आँखें देख रही हैं रात की वुसअत के उस पार
KAISE KATEGA KAL KA UJAALA KAISE DHALEGI RAAT SIYAAH
JAAGTI AANKHEN DEKH RAHI HAIN RAAT KI WUS'AT KE US PAAR

ले तो लिया है ख़ुद अपने सर जुर्म-ए-मोहब्बत, जुर्म-ए-ख़ुलूस
कोस रहे हैं अब ख़ुद को ही, कर तो लिया हमने इक़रार
LE TO LIYA HAI KHUD APNE SAR JURM E MOHABBAT JURM E KHULOOS
KOS RAHE HAIN AB KHUD KO HI KAR TO LIYA HAM NE IQRAAR

खाते हैं जी भर के लुटेरे, लुटता है मजबूर वतन
ख़ादिम तानाशाह बने हैं, भूके नंगे हैं हक़दार
KHAATE HAIN JEE BHAR KE LUTERE LUT-TA HAI MAJBOOR WATAN
KHAADIM TAANASHAAH BANE HAIN BHOOKE NANGE HAIN HAQDAAR

रात की बाहें फाइल रही हैं और बाक़ी हैं काम कई
सोना है फिर हश्र तलक, मुमताज़ रहो कुछ पल बेदार
RAAT KI BAAHEN PHAIL RAHI HAIN AUR BAAQI HAIN KAAM KAEE
SONA HAI PHIR HASHR TALAK 'MUMTAZ' RAHO KUCHH PAL BEDAAR


आबले छाले, इसरार ज़िद्द करना, हमवार समतल, क़यामत प्रलय, अशजार पेड़ (बहुवचन), वुसअत विस्तार, ख़ुलूस सच्चाई, इक़रार मान लेना, हश्र प्रलय, बेदार जागते हुए 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया