ग़ज़ल - ख़्वाबों की रसधार में अक्सर भीगा करती हूँ

नश्शे में रहती हूँ, क्या क्या सोचा करती हूँ
होश नहीं ख़ुद मुझ को भी मैं क्या क्या करती हूँ
NASHE MEN REHTI HOON KYA KYA SOCHA KARTI HOON
HOSH NAHIN KHUD MUJH KO BHI MAIN KYA KYA KARTI HOON

ख़्वाबों की रसधार में अक्सर भीगा करती हूँ
जागती आँखों से अब सपना देखा करती हूँ
KHWAABON KI RASDHAAR MEN AKSAR BHEEGA KARTI HOON
JAAGTI AANKHON SE AB SAPNA DEKHA KARTI HOON

शाम ढले वहशत की गली में भटका करती हूँ
बोझ मैं दिल का यूँ भी अक्सर हल्का करती हूँ
SHAM DHALE WAHSHAT KI GALI MEN BHATKA KARTI HOON
BOJH ZEHN KA YUN BHI AKSAR HALKA KARTI HOON

आँसू, हसरत, ग़म, नग़्मे, ग़ज़लें, नज़्में, अशआर
लोगों में कुछ ख़्वाब अधूरे बाँटा करती हूँ
AANSOO HASRAT GHAM WAHSHAT GHAZLEN NAZMEN ASHAAR
LOGON MEN KUCHH KHWAAB ADHOORE BAANTA KARTI HOON

हसरत की पड़ जाए नज़र तो रूह भी जल जाए
अपने दिल की हर हसरत से पर्दा करती हूँ
HASRAT KI PAD JAAE NAZAR TO ROOH BHI JAL JAAEY
APNE DIL KI HAR HASRAT SE PARDA KARTI HOON

बादल बन कर बरसा करता है वो इक एहसास
उस के साए को भी अब तो सजदा करती हूँ
BAADAL BAN KAR BARSA KARTA HAI WO IK EHSAAS
US KE SAAEY KO BHI AB TO SAJDA KARTI HOON

छोटे से इक हिज्र में कितनी लज़्ज़त होती है
रात गए तक उसकी ख़ातिर जागा करती हूँ
CHHOTE SE IK HIJR MEN KITNI LAZZAT HOTI HAI
RAAT GAE TAK US KI KHAATIR JAAGA KARTI HOON

एक तकल्लुम की शहनाई बजती रहती है
लफ़्ज़ों से मुमताज़ मुसल्सल खेला करती हूँ
EK TAKALLUM KI SHEHNAAI BAJTI REHTI HAI

LAFZON SE 'MUMTAZ' MUSALSAL KHELA KARTI HOON 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया